Monday, 15 October 2018

5 shayari in hindi

5 shayari in hindi


5 shaayari

*तेरे आने की उम्मीद आज भी दिल में जिंदा है,*

*इस कदर इंतजार किया है तेरा, कि वक्त भी शर्मिंदा है...*
_______________________________________

*खुद से जितनी की जिद है*
*मुझे खुद को ही हराना है*

*मै भीड़ नहीं हु दुनिया की*
*मेरे अंदर एक जमाना है*
_______________________________________

*मन में उतरना*
*और*
*मन से उतरना*
*केवल आपके व्यवहार* *पर निर्भर करता है*

_______________________________________



*भुख!!*
*सारी मर्यादाए तोड़ देती है*
:
:
*और*
*पैसा!*सारी इन्सानियत....*

_______________________________________

यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम;
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम;
जिसको जितना याद करते हैं;

उसे भी उतना याद आयें हम

0 comments: